करवा चौथ पर सुहागन महिलाएं अपने पति की दीर्घायु व सुखी दांपत्य जीवन के लिए निर्जला उपवास करती हैं। हर सुहागन महिला के लिए इस दिन का विशेष महत्व होता है और वे बेसब्री से इस दिन का इंतजार करती हैं। इस बार करवा चौथ का त्योहार 24 अक्टूबर 2021 को रखा जाएगा। इस दिन सोलह श्रंगार करने का बहुत महत्व माना जाता है, महिलाएं हाथों में मेहंदी रचाती हैं, आलता लगाती हैं व सोलह श्रंगार करके पूजन करती हैं। करवा चौथ सौभाग्य का प्रतीक है इसलिए इस दिन कुछ बातों को ध्यान में रखने के साथ ही कपड़ो के रंग का ध्यान रखना बेहद आवश्यक होता है। इस दिन कुछ रंगों के कपड़े पहनना शुभ नहीं माना जाता है। सुहागन स्त्रियों को करवा चौथ पर इन रंगो को कपड़े भूलकर भी नहीं पहनने चाहिए।

काला रंग
काले रंग को अशुभता और नकारात्मकता का प्रतीक माना जाता है, इसलिए हिंदू धर्म में कोई भी शुभ कार्य या धार्मिक अनुष्ठान के समय काला रंग पहनने से मना किया जाता है। मंगलसूत्र में काले रंग के मोती का प्रयोग केवल बुरी नजर से बचाने के लिए किया जाता है इसलिए मंगलसूत्र व काजल के सिवाय किसी भी तरह से काले रंग का प्रयोग नहीं करना चाहिए। खासतौर पर सुहगिन स्त्रियों को ध्यान रखना चाहिए कि करवा चौथ पर काले रंग के वस्त्र धारण न करें।

सफेद रंग
सफेद रंग भले ही शांति और सौम्यता का प्रतीक माना जाता है लेकिन सनातन धर्म में सुहगिनों के लिए यह रंग पहनना अशुभ माना जाता है, इसलिए करवा चौथ पर सुहागिन महिलाओं को भूलकर भी सफेद रंग की साड़ी आदि नहीं पहनने चाहिए। इसी के साथ सफेद रंग की चीजों जैसे दही, दूध, चावल या सफेद वस्त्र आदि भी इस दिन दान नहीं करने चाहिए।

भूरा रंग
वैसे तो भूरा रंग अशुभ नहीं माना जाता है लेकिन कहा जाता है कि इस रंग पर राहु-केतु का प्रभाव होता है इसलिए सुहगिन महिलाओं को करवाचौथ पर भूरे रंग के कपड़े पहनने से भी बचना चाहिए।

 सुहगिन स्त्रियों के लिए ये रंग रहते हैं शुभ
सुहागिन स्त्रियों के लिए लाल, गुलाबी, पीला, हरा, महरून रंग पहनना शुभ माना जाता है। इस दिन महिलाओं को इन्हीं में से किसी रंग के कपड़े पहनने चाहिए और पूजा के समय यदि लाल वस्त्र धारण करें तो अत्यंत शुभ रहेगा। करवा चौथ पर शादी का जोड़ा पहनना बहुत शुभ माना जाता है।