नई दिल्‍ली ।  ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने महाराष्ट्र की उद्धव सरकार पर हमला करके हुए कहा कि कांग्रेस-एनसीपी से गठजोड़ कर शिवसेना हिंदुत्व से एक इंच भी दूर नहीं गई। उन्होंने कहा कि हिंदुत्‍व देश की एकता और अखंडता के लिए खतरा है। ओवैसी ने शुक्रवार को उद्धव ठाकरे को संबोधित करते हुए ट्वीट किया। इसमें हिंदुत्‍व को टैग करते हुए उन्‍होंने लिखा, 'हिंदुत्व देश की एकता और अखंडता के लिए खतरा है। हिंदुत्व की परिभाषा ही है- ब्रिटिश स्‍टाइल में फूट डालो और राज करो।' ओवैसी ने सीएम उद्धव ठाकरे पर हमला करते हुए लिखा कि एनसीपी और कांग्रेस ने आपके साथ गठजोड़ करके अपनी तथाकथित धर्मनिरपेक्ष विचारधारा को खुशी-खुशी कमजोर कर दिया। लेकिन, आप हिंदुत्व से एक इंच भी दूर नहीं गए।
एआईएमआईएम प्रमुख ने राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर भी निशाना साधा। उन्‍होंने कहा कि समाज को चुनना है कि वह असमानता के लिए आरएसएस के प्यार और स्वतंत्रता, समानता, बंधुत्व व न्याय के लिए अंबेडकर की इच्छा के बीच किसे चाहता है। इसके पहले महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने भाजपा को टारगेट करते हुए कहा कि हिंदुत्व खतरे में है क्योंकि जो सत्ता में हैं, वो अंग्रेजों की शैली में लोगों को विभिन्न लाइनों पर बांटते हैं। हमें सभी समुदायों की खाई को पाटना है। ठाकरे ने स्वतंत्रता सेनानी विनायक दामोदर सावरकर पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की टिप्पणी को लेकर उपजे विवाद सहित विभिन्न मुद्दों पर शुक्रवार को अपने पूर्व गठबंधन सहयोगी भाजपा की जमकर आलोचना की।
शनमुखानंद हॉल में शिवसेना की वार्षिक दशहरा रैली में ठाकरे ने कहा कि भाजपा ने वीर सावरकर और महात्मा गांधी दोनों ही को नहीं समझा है। राजनाथ सिंह ने हाल ही में यह दावा करके विवाद पैदा कर दिया था कि अंडमान के सेलुलर जेल में बंद रहने के दौरान महात्मा गांधी ने वीर सावरकर को ब्रिटिश सरकार को दया याचिका भेजने की सलाह दी थी।